Disha Bhoomi
Disha Bhoomi

जेल परिसर में हवन व शांति पाठ के बाद अमर शहीद को दी गई श्रद्धान्जलि

‘‘शहीदों की चिताओं पर लगेगें हर बरस मेले, वतन पर मरने वालों का यही बाकी निशां होगा’’ के संकल्प के साथ स्वतंत्रता संग्राम के अमर नायक शहीद राजेन्द्र नाथ लाहिड़ी जी के 94वें बलिदान दिवस के अवसर पर जिला कारागार में आर्य समाज द्वारा वैदिक मंत्रों के साथ हवन-पूजन एवं शांति पाठ सम्पन्न कराया गया। लाहिड़ी जी के बलिदान दिवस पर अमर शहीद को बतौर मुख्य अतिथि जनपद के जिला जज, जिलाधिकारी व मुख्य न्यायिक दण्डाधिकारी सहित अधिकारियों व प्रशासनिक अधिकारियों, गणमान्य नागरिकों, अधिवक्ताओं तथा समाजसेवियों द्वारा श्रृद्धासुमन अर्पित किए गए। जिला कारागार में हवन-पूजन करने के उपरान्त जिला जज, डीएम, सीजेएम, विधायक सदर बलरामपुर पल्टूराम सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारियों ने जेल परिसर में लाहिड़ी जी के बलिदान स्थल पर स्थापित प्रतिमा पर माल्यार्पण कर उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित किए तथा उनकी शहादत को याद किया।

Disha Bhoomi
Disha Bhoomi 
Disha Bhoomi
Disha Bhoomi

अमर शहीद लाहिड़ी जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण के उपरान्त लाहिड़ी जी को सलामी दी गई और राष्ट्रगान की धुन बजाई गई। श्रद्धान्जलि सभा एवं सलामी के उपरान्त आयोजित समारोह में सर्वधर्म समभाव के तहत सभी धर्मों के धर्म गुरूओं द्वारा शांति किया गया। इस अवसर पर लाहिड़ी जी के जीवन एवं बलिदान पर प्रकाश डालते हुए जिला जज संजय शंकर पाण्डेय ने अमर शहीद लाहिड़ी जी के अन्तिम वाक्य ‘‘मैं मरने नहीं जा रहा, अपितु आजाद भारत में पुनर्जन्म लेने जा रहा हूं’’ दोेहराते हुए कहा कि लाहिड़ी जी का जीवन राष्ट्र प्रेम का एक जीवन्त उदाहरण है। हम सबको उनसे प्रेरणा लेते हुए देश हित के लिए अपना सर्वश्रेष्ठ प्रयास करना चाहिए, यही लाहिड़ी जी के लिए सच्ची श्रृद्धान्जलि होगी। जिलाधिकारी डा0 नितिन बंसल ने कहा कि लाहिड़ी जी जैसे व्यक्तित्व और सच्चे राष्ट्र भक्तों के बलिदानों के कारण ही हम सब भारतीय आज आजाद भारत में सांस ले पा रहे हैं। उन्होने लोगों का आहवान करते हुए कहा कि इस अवसर पर हम सबको निःस्वार्थ भाव से राष्ट्र सेवा का संकल्प लेना चाहिए और आजादी के दीवानों के सपनों का भारत बनाने में अपना योगदान करना चाहिए। सीजेएम हरीराम ने कहा कि लाहिड़ी जी का बलिदान भारत के युवाओं के लिए सबसे बड़ा उदाहरण है। उन्होंने कहा कि देश को गुलामी की दास्तां से मुक्ति दिलाने के लिए 26 वर्ष की उम्र में अपने देश के लिए फांसी के फन्दे को हंसते हुए चूमने वाले अमर शहीद लाहिड़ी जी का सम्पूर्ण जीवन प्रेरणा से भरा हुआ है।

Disha Bhoomi
Disha Bhoomi  
Disha Bhoomi
Disha Bhoomi

नगर मजिस्ट्रेट वन्दना त्रिवेदी ने कहा कि आज के भौतिकवादी युग में देश के विकास में युवाओं की भागीदारी होना आवश्यक है और इसकी प्रेरणा के लिए लाहिड़ी जी का जीवन दर्शन सबसे बड़ा उदाहरण है। उन्होंने वहां उपस्थित लोगों से अपील की कि वे सब अपने बच्चों के देश के नायकों के बारे में जरूर बताएं तथा उनके जीवन दर्शन के प्रति प्रेरित करें। समारोह के बाद जिला जज, सीजेएम, डीएम तथा एएसपी द्वारा लाहिड़ी उद्यान परिसर में पौधरोपण भी किया गया। इसके उपरान्त सभी अधिकारियों ने फांसी स्थल को भी देेखा, जहां पर लाहिड़ी जी को फांसी दी गई थी।

कार्यक्रम के दौरान मा0 विधायक सदर बलरामपुर पल्टूराम, मुख्य विकास अधिकारी शशांक त्रिपाठी, एएसपी महेन्द्र कुमार, सिटी मजिस्ट्रेट वन्दना त्रिवेदी, जेल अधीक्षक शशिकान्त सिंह, एसडीएम सदर कुलदीप सिंह, सीओ लक्ष्मीकान्त गौतम, जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी डा0 इन्द्रजीत प्रजापति, डीजीसी क्रिमिनल बसन्त शुक्ला, बार एसोशिएसन अध्यक्ष दीनानाथ त्रिपाठी व पूर्व अध्यक्ष रविचन्द्र त्रिपाठी, शारदाकान्त पाण्डेय, रेखा श्रीवास्तव, समाज सेवी धरमवीर आर्य, माधवराज सिंह, परसपुर विकास मंच के अरूण सिंह सहित अन्य गणमान्य नागरिक व अधिकारीगण उपस्थित रहे।

श्याम बाबू कमल गोंडा

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here