Disha Bhoomi

कुशीनगर के बदुराव गांव के रहने वाले सैनिक रामेश्वर गुप्ता की चीन सीमा पर तैनाती के दौरान मंगलवार को मौत हो गयी। सूचना मिलने के बाद परिजनों सहित पूरे गांव में मातम का माहौल है। शहीद जवान की बेटी की शादी अगले वर्ष अप्रैल महीने में तय है।

फाजिलनगर विकास खंड के बदुराव निवासी स्व. सिंहासन गुप्ता के तीन बेटों में सबसे छोटे बेटे रामेश्वर गुप्ता (45) भारतीय थल सेना में थे।  वर्तमान में उनकी तैनाती चीन सीमा के सुकिया  करौंधी बॉर्डर पर थी। मंगलवार की देर शाम सेना अधिकारी ने उनके बड़े पुत्र अजीत के फोन पर सूचना दी कि आपके पिता सैनिक रामेश्वर गुप्ता की हृदय गति रुकने से मौत गयी है। यह सुनते ही पूरे घर में कोहराम मच गया। बाद में फिर फोन से बताया गया कि बुधवार को पोस्टमार्टम और अन्य जरूरी प्रक्रिया पूरी करने के बाद उनका शव गुरुवार को विमान से सुबह आठ बजे वाराणसी पहुंचेगा।

शहीद सैनिक रामेश्वर के दो बेटे और दो बेटियां है। बड़ी बेटी की शादी अगले साल अप्रैल में तय है। उसके बड़े पुत्र अजीत ने बताया कि पांच अक्टूबर को पिता जी ने फोन कर शादी के तैयारियों के बारे में पूछा था। उसने बताया कि जहां वे तैनात थे वहां उनके नंबर से बात नहीं होती थी। वह वहां के खुद ही कोई नंबर मिलाते थे, तभी बात हो पाती थी। परिवार वालों के अनुसार उनको किसी प्रकार की बीमारी भी नहीं थी। मौत की सूचना के बाद पूरे गांव में मातम फैला हुआ है। क्षेत्र के तमाम लोग जवान के घर जाकर परिवार को सांत्वना दे रहे है। पार्थिव शरीर गुरुवार को गांव पहुंचने की संभावना है। सैनिक सम्मान के साथ उन्‍हें अंतिम विदाई दी जाएगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here