dishabhoomi.coom

पृथ्‍वी की कक्षा के बेहद पास से एक व‍िशाल ऐस्‍टरॉइड गुजरने जा रहा है। इसका नाम Asteroid 2011ES4 है और यह मंगलवार की रात को धरती के सबसे करीब होगा। करीब 9 साल बाद यह ऐस्‍टरॉइड इतना करीब आया है।

अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने कहा है कि धरती और चंद्रमा के बीच से मंगलवार को एक विशाल चट्टान गुजरने जा रही है। करीब 20-40 मीटर चौड़ा यह ऐस्टरॉइड 2011ES4 धरती के करीब से 1 सितंबर को गुजरेगा। यह ऐस्‍टरॉइड धरती के इतना नजदीक से गुजरेगा जितना कि अगले 10 साल में कोई और ऐस्‍टरॉइड नहीं गुजरेगा। वैज्ञानिकों के मुताबिक इसकी धरती से दूरी 1.2 लाख किलोमीटर तक रह सकती है।

धरती और चांद के बीच दूरी 3,84,402 किलोमीटर है। वैज्ञानिकों का कहना है कि 1.2 लाख किलोमीटर की यह दूरी वैसे तो काफी कम है लेकिन इसके धरती से टकराने की संभावना न के बराबर है। नासा ने बताया कि यह ऐस्‍टरॉइड भारतीय समयानुसार रात नौ बजे यह ऐस्‍टरॉइड 2011 ES4 पृथ्‍वी के सबसे करीब होगा। उधर, रूसी अंतर‍िक्ष एजेंसी रोसकोसमॉस ने भी कहा है कि इस ऐस्‍टरॉइड से धरती को कोई ख‍तरा नहीं है। नासा नौ साल बाद आने वाले इस ऐस्‍टरॉइड के अध्‍ययन के ल‍िए उस पर नजर बनाए हुए है।

अगस्‍त महीने में ही इस तरह की 80 चट्टानें धरती के पास से गुजरी थीं। यह ऐस्टरॉइड 2011 ES4 वर्ष 2011 में खोजा गया था और तब सिर्फ 4 दिन के लिए इसे देखा गया था। यह अपना एक चक्कर पूरा करने में 1.14 साल लगाता है। धरती के साथ इसकी कक्षा सिर्फ 9 साल में एक बार इसे हमारे करीब लाती है। हालांकि, इसका रास्ता फिर भी काफी अलग होगा और इससे पृथ्वी या पृथ्वी की किसी आर्टिफिशल सैटलाइट को खतरा नहीं है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here